गांव में रहने वाला भला “सिटिजन” कैसे हो सकता है?

भारतीय लोकतंत्र में हर उस व्यक्ति को जिसे इसमें हिस्सेदार बनाया गया है, क्या कहा जाए? जनसंख्या की दृष्टि से देखा जाए तो आज भी गांवों में रहने वालों की संख्या अधिक है। शहरों में जो लोग रह रहे हैं, उसमें भी अधिसंख्यक किसी न किसी गांव से ताल्लुक रखते हैं।